राजस्थान रिफाइनरी का अब तक 51 प्रतिशत कार्य पूर्ण, मार्च, 24 तक सभी 13 मैकेनिकल यूनिट होगी पूरी – एसीएस डॉ. अग्रवाल

  • राजस्थान रिफाइनरी में एफिल टॉवर से 40 टाइम्स अधिक लगेगा स्टील
  • रिफाइनरी में अब तक 18936 करोड़ व्यय, हजारों करोड़ के कार्यादेश जारी

0
275
रिफाइनरी

जयपुर। एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी की सभी 13 मैकेनिकल इकाइयों का संपूर्ण कार्य मार्च, 24 तक पूरा करने का रोडमेप बनाया गया है। यह जानकारी गुरुवार को अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस एवं पेट्रोलियम डॉ. सुबोध अग्रवाल की अध्यक्षता में राजस्थान रिफाइनरी की उच्च स्तरीय बैठक मेें दी गई। बैठक में एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी व राज्य सरकार के उच्च अधिकारी उपस्थित थे। उन्होंने बताया कि राजस्थान रिफाइनरी राज्य सरकार का ड्रीम प्रोजेक्ट है और इससे राजस्थान की इकोनोमिक तस्वीर ही बदल जाएगी। अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया है कि रिफाइनरी के अधिकारियों ने विश्वास दिलाया है कि रिफाइनरी की 13 में से 4 का जून, 23 व 3 मैकेनिकल इकाइयों का कार्य सितंबर 23 तक पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि क्रूड डिस्टीलेषन यूनिट, डीसीयू, डीजल हाइड्रो ट्रिटिंग यूनिट, हाईड्रोजन जेनरेषन यूनिट, ड्ुअल फीड क्रेकर यूनिट, पेट्रोकेमिकल फ्लूडाइज्ड केटेलिटिक क्रेकिंग यूनिट, और वेक्यूम गैस ऑयल हाइड्रो ट्रिटिंग यूनिट का कार्य सितंबर 23 तक पूरा कर लिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि रिफाइनरी का कार्य पूरी गति से चल रहा है और 51 प्रतिशत कार्य पूरा कर लिया गया है। रिफाइनरी से जुड़े विभिन्न कार्यों में इस समय 17749 मानव संसाधन कार्यरत हैं। वहीं अब तक 18936 करोड़ व्यय हो चुके हैं वहीं हजारों करोड़ के वर्क आर्डर दिए जा चुके हैं। डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि रिफाइनरी क्षेत्र में आवश्यक आधारभूत सुविधाएं यथा अस्पताल, स्कूल, रोड, प्लांटेशन व इसी तरह के अन्य कार्य भी प्रस्तावित है जिससे क्षेत्रवासियों को बेहतर आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध हो सकेगी। उन्होेंने रिफाइनरी के अधिकारियों को कहा कि गुणवत्ता पर बल देते हुए रिफाइनरी का कार्य तय समय सीमा में पूरा किया जाए। एसपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी के निदेशक विनोद एस शेनॉय और मुख्य कार्यकारी अधिकारी कमलाकर विखर ने बताया कि कोविड के कारण रिफाइनरी के कार्य को तय समय सीमा में पूरा करने में बाधा अवश्य आई पर अब सभी बड़े इकाई कार्य 31 मार्च, 2024 तक पूरे कर लिए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि राजस्थान रिफाइनरी से करीब 35 हजार लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार मिलने के साथ ही मल्टीफोल्ड रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे व पश्चि मी राजस्थान के आर्थिक विकास के नए द्वार खुल जाएंगे। निदेशक विनोद एस शेनॉय और मुख्य कार्यकारी अधिकारी कमलाकर विखर ने बताया कि रिफाइनरी के काम का इसी से अंदाज लगाया जा सकता है कि विश्व की सबसे उंची बिल्डिंग बुर्ज खलिफा से पांच गुणा अधिक कंक्रिट का उपयोग होगा वहीं एफिल टॉवर से 40 टाइम अधिक स्टील का उपयोग किया जाएगा। बैठक में रिफाइनरी के अधिकारियों ने प्रजेटेशन के माध्यम से विस्तार से परियोजना प्रगति की जानकारी दी।

एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी की बैठक में निदेशक पेट्रोलियम प्रदीप गंवाड़े, उप सचिव माइंस नीतू बारुपाल, अतिरिक्त निदेशक पेट्रोलियम अजय शर्मा, राजस्थान रिफाइनरी के निदेशक विनोद शेनॉय मुख्य कार्यकारी अधिकारी कमलाकर विखर, कार्यकारी निदेशक अभिषेक त्रिवेदी, मुख्य वित्तीय अधिकारी उमेश अग्रवाल, सीएस एसआरआरएल वी मुरली ईडी प्रोजेक्टस जनक किशोर और सीजीएम प्रोजेक्टस एस के सिंह, एसजी माइंस सुनील कुमार व अन्य अधिकारियों ने हिस्सा लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here