नेट-थियेट पर क्लासिकल वेव की उड़ान

0
123
नेट-थियेट

जयपुर। नेट-थियेट के कार्यक्रमों की श्रृंखला में आज प्रदेश के युवा गायक सुमंत मुखर्जी ने अपनी सुरीली पुरकशीश आवाज में जब ताहिर फराज की ग़ज़ल काश कोई ऐसा मंजर होता मेरे कांधे पे तेरा सर होता सुना कर कार्यक्रम का आगाज किया। नेट-थियेट के राजेन्द्र शर्मा राजू ने बताया कि सुमंत ने जब हस्ती की लिखी नई ग़ज़ल प्यार का पहला ख़त लिखने में वक्त तो लगता, नये परिंदो को उडने में वक्त तो लगता है गाकर सुमधुर शाम को परवान चढाई।

जफ़र गोरखपुरी की ग़ज़ल और आहिस्ता किजीये बातें धडकनें कोई सुन रहा होगा उसके बाद निदा फाज़ली के दोहे छोटा करके देखिये जीवन का विस्तार, आंखें भर आकाश है बाहों भर संसार सुनाकर महौल रूमानियत भरा बना दिया। इनके साथ तबले पर गुलाम फरीद और हारमोनियम पर शेर खान ने असरदार संगत कर कार्यक्रम को ऊंचाई दी। कैमरा संचालन जितेन्द्र शर्मा, प्रकाश मनोज स्वामी, मंच सज्जा घृति शर्मा, अंकित शर्मा नोनू और जीवितेश शर्मा का रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here