कैदी ने खोली पुलिस की पोल : मंत्री टीकाराम जूली और सीएम सलाहकार लोढ़ा को बताया, जिस मर्डर के आरोप में पकड़ा, उस समय मैं जेल में बंद था

0
203
लोढ़ा

जयपुर : राजस्थान के जेल मंत्री टीकाराम जूली और सीएम के सलाहकार संयम लोढ़ा के सामने एक कैदी ने पुलिस की पोल खोल दी। पुलिस ने एक ऐसे व्यक्ति को हत्या का आरोपी बता दिया, जो संबंधित मामले के दौरान जेल में बंद था। उसके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट निकाल दिया गया। अब वह इस मामले में जेल काट रहा है। संयम लोढ़ा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चिट्‌ठी लिखकर पुलिस का कारनामा बताया। आरोपी को छुड़वाने की व्यवस्था करने को कहा है। लोढ़ा ने जैसे ही ट्वीट पर मांग उठाई, उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने उनका समर्थन किया। राठौड़ ने इस मामले को केवल एक बानगी बताया और आशंका जताई कि प्रदेश की 144 जेलों में पता नहीं कितने लोग झूठे मुकदमों में जेल काट रहे होंगे।

लोढ़ा

उल्लेखनीय है कि मंत्री टीकाराम जूली और सलाहकार लोढ़ा 2 अप्रैल को सिरोही जेल का दौरा करने पहुंचे थे। कैदी गेमाराम गरासिया ने दोनों के सामने पुलिस की झूठी कार्रवाई की कहानी सुनाई। गरासिया ने कहा- सिरोही जिला स्थित झाडोलीवीर में 25 मई, 2018 को लादूदेवी हत्याकांड हुआ था। 2 अप्रैल 2018 से 29 मई 2018 तक वह बाली जेल में बंद रहा। इसके बाद भी पुलिस ने उसे हत्याकांड का आरोपी बना दिया और गिरफ्तारी वारंट भी निकाल दिया व जेल में बंद कर दिया। मंत्री और सलाहकार ने बाली जेल के जेलर से पुष्टि करने के लिए रिकॉर्ड मांगा। जेलर की ओर से भेजे गए रिकॉर्ड से गेमाराम गरासिया की बात की पुष्टि हो गई। लोढ़ा ने मुख्यमंत्री को चिट्‌ठी के साथ बाली जेलर की तथ्यात्मक रिपोर्ट भी भेज दी है।

गेमाराम और लकमाराम दोनों को राज्य सरकार दे उचित मुआवजा

लोढ़ा ने मामले को पुलिस का अत्याचार बताते हुए संबंधित पुलिसवालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि गेमाराम के आर्थिक हालात खराब है। ऐसे आदमी को पुलिस ने जेल में अब तक बंद रखा हुआ है। पुलिस जांच पर सवाल उठता है। लोढ़ा ने कहा कि सिरोही का यह दूसरा मामला सामने आया है। इससे पहले बरलूट थाने में 26 मई 2018 में लकमाराम देवासी को हत्या का आरोपी बताया। चार साल जेल में रहने के बाद अदालत ने उसे निर्दोष बताया। गेमाराम और लकमाराम दोनों को राज्य सरकार को उचित मुआवजा देना चाहिए। दोषी पुलिस वालों पर मुकदमे होने चाहिए।

लोढ़ा

मामले की न्यायिक जांच हो

उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने लोढ़ा के ट्वीट पर जवाब दिया है। उन्होंने लोढ़ा को सीएम सलाहकार मंडल का मुखिया कहा और मुख्यमंत्री गहलोत से अपील कि कम से कम अपने सलाहकार मंडल के मुखिया की तो सलाह मान लो। राठौड़ ने गहलोत से मामले की न्यायिक जांच करवाने की मांग भी की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here