चांदी के गोले दागने वाला ऐतिहासिक चूरू किला धराशाही होने के कगार पर

- रविवार को जीर्ण शीर्ण किले की दीवार का एक हिस्सा ढहा

0
813
चूरू

जयपुर। अपनी आज़ादी की रक्षा के लिए दुश्मनों पर चांदी के गोले दागने वाला दुनिया का एक मात्र चूरू का ऐतिहासिक किला आज धराशाही होने के कगार पर है। जीर्ण शीर्ण किले की दीवार का एक हिस्सा रविवार को अचानक ढह गया। अन्य दीवारें और बुर्जियां भी कभी भी गिर सकती है, जिससे लोगों के जान  माल का खतरा भी मंडरा रहा है कभी भी बड़ी दुर्घटना घट सकती है। इस किले में आज भी पुलिस थाना और अस्पताल चल रहे है। मंदिर सहित अनेक ऐतिहासिक धरोहरे भी यहाँ स्थापित है। लोगों के आने जाने का रास्ता भी इसी किले से होकर है। मगर इस किले की सुध न प्रशासन ले रहा है और न ही जन प्रतिनिधि।

चूरू

चूरू निवासी वरिष्ठ पत्रकार बाल मुकुंद ओझा ने मुख्यमंत्री को भेजे एक मेल में कहा है कि आज शहीद दिवस है। आज के दिन हमें अपनी उन ऐतिहासिक धरोहरों की रक्षा का भी प्रण लेना चाहिए जिनका आज़ादी की रक्षा में अमूल्य योगदान है। मेँ आपका ध्यान  चूरू के ऐतिहासिक किले की और दिलाना चाहता हूँ। अपनी आजादी और अस्मिता की रक्षा के लिए दुश्मनों पर चांदी के गोले दाग कर विश्व इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में अपना नाम अंकित कराने वाला चूरू का ऐतिहासिक किला आज सरकार, प्रशासन और जन प्रतिनिधियों की आपराधिक उदासीनता, लापरवाही और बेरुखी का शिकार होकर धराशाही होने जा रहा है। जर्जर किले की एक दीवार आज आज अचानक गिर गयी है। आप से अनुरोध है तुरंत इसकी सुध लेकर जीर्णोद्धार कराएं अन्यथा इतिहास आप और हमें कभी क्षमा नहीं करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here