जोधपुर में झंडा लगाने को लेकर हुए विवाद के बाद अब 10 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू और इंटरनेट बंद

- सीएम गहलोत ने हाई लेवल मीटिंग के बाद दो मंत्रियो को जोधपुर भेजा

0
624
कर्फ्यू

जोधपुर : जालोरी गेट पर झंडा लगाने को लेकर देर रात हुआ विवाद सुबह एक बार फिर भड़क उठा। मंगलवार सुबह दोबारा से भीड़ जुट गई। पत्थरबाजी और आगजनी शुरू हो गई। पुलिस ने उपद्रवियों पर लाठीचार्ज किया, आंसू गैस के गोले छोड़ लोगों को खदेड़ा। तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए जोधपुर के 10 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया गया है। वहीं, जिले में आज रात 12 बजे तक इंटरनेट बंद किया गया है। इधर, जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने जन्मदिन के सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं। हालात का फीडबैक लेने के लिए उन्होंने एक हाईलेवल मीटिंग भी बुलाई है। मुख्यमंत्री ने सभी से शांति बनाए रखने की अपील की है। वहीं, दो मंत्रियों और दो वरिष्ठ अधिकारियों को हेलिकॉप्टर से तुरंत जोधपुर भेजा गया है।

इससे पहले आज सुबह जोधपुर के शनिचर थाना इलाके में उपद्रवियों ने 20 से ज्यादा गाड़ियों के कांच तोड़ दिए और कई एटीएम में भी तोड़फोड़ की है। सूरसागर विधायक के घर के बाहर भी हंगामा हुआ है। जयपुर से एडीजी क्राइम समेत अन्य अधिकारियों को जोधपुर भेजा गया है। उधर, आज पत्थरबाजी में एक और पुलिसकर्मी घायल हो गया है। कल रात से तीन पुलिसकर्मी जख्मी हो चुके हैं।

सीएम गहलोत ने ली हाई लेवल मीटिंग

सीएम अशोक गहलोत ने सोमवार रात को उपजे विवाद के बाद सभी पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील की थी। मंगलवार सुबह भी पत्थरबाजी के बाद सीएम गहलोत ने जयपुर में हाई लेवल मीटिंग की। इसमें जोधपुर के प्रभारी मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग और गृह राज्य मंत्री राजेन्द्र यादव को तुरंत जोधपुर रवाना होने के लिए कहा गया। उनके साथ एसीएस होम अभय कुमार और एडीजी लॉ एंड ऑडर्र हवासिंह घुमारिया को भी भेजा गया है।

भाजपा विधायक के घर के बाहर हंगामा

मंगलवार सुबह उपद्रवियों ने जालोरी गेट के नजदीक स्थित सूरसागर से भाजपा विधायक सूर्यकांता व्यास के घर के बाहर भी हंगामा किया। यहां दंगाइयों ने एक बाइक भी फूंक दी। विधायक के घर के बाहर माहौल बिगड़ता देख डीसीपी वेस्ट भुवन भूषण यादव यहां पहुंचे और उपद्रवियों को यहां से खदेड़ा। पूरे क्षेत्र को पुलिस ने छावनी में तब्दील कर दिया है। घटना को लेकर सूरसागर भाजपा विधायक सूर्यकांता व्यास ने जोधपुर में हुए बवाल के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि जोधपुर को जोधपुर रहने दो। इसे श्मशान नहीं बनाना है। इस तरह की घटना होना सीएम के लिए शर्म की बात है। रातभर से हालात खराब है। मैं पुलिस के काम से संतुष्ट नहीं हूं। पुलिस दबाव में काम कर रही है। पुलिस निष्पक्ष काम करें। मैंने गलती की है तो मुझे भी सजा दो। कांग्रेस का एक भी जनप्रतिनिध यहां नहीं आया है। यह प्लानिंग के साथ काम किया है।

इन 10 थाना क्षेत्रों में लगा कर्फ्यू

तनाव को देखते हुए जिला प्रशासन ने जोधपुर के उदयमंदिर, सदर कोतवाली, सदर बाजार, नागोरी गेट, खांडाफलसा, प्रताप नगर, प्रताप नगर सदर, देव नगर, सुरसागर और सरदारपुरा थाना क्षेत्र में बुधवार रात 12 बजे तक कर्फ्यू लगाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here