डॉक्टरों की सुरक्षा सुनिश्चित हो, सख्त कानून की जरूरत – डॉ. किरोड़ी मीणा

- राज्यसभा के विशेष उल्लेख में डॉक्टरों के लिए की वकालत

0
129
डॉक्टरों

नई दिल्ली/जयपुर। राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा ने देशभर के डॉक्टरों के लिए पुरजोर वकालत करते हुए डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए सख्त कानून बनाने की मांग की है। राज्यसभा के विशेष उल्लेख में डॉ. मीणा ने कहा कि हर मरीज की मौत को डॉक्टर एवं नर्सिंग स्टाफ की लापरवाही से जोड़ देने के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में मरीज के परिजनों द्वारा डॉक्टरों पर हमले करने का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। यह किसी भी रूप में उचित नहीं है। डॉक्टर मीणा ने कहा कि हाल ही में राजस्थान में एक महिला डॉक्टर ने दबाव के कारण खुदखुशी कर ली । सुप्रीम कोर्ट ने नवंबर 2021 के फैसले में कहा था कि डॉक्टर सर्वोच्च क्षमता के साथ मरीज का इलाज करता है। किसी कारण से मरीज की मौत होती है तो उसके कारण डॉक्टर पर लापरवाही का दोष नहीं लगाया जा सकता।

सुप्रीम कोर्ट के 2021 के फैसले के अनुसार सर्जरी के दौरान मरीज की मृत्यु हो जाती है तो स्वाभाविक रूप से डॉक्टर की लापरवाही नहीं माना जा सकता, इसके लिए चिकित्सा साक्ष्य जरूरी है। सुप्रीम कोर्ट के 2022 के एक फैसले के अनुसार अदालते फैसले से पूर्व डॉक्टर को अपना पक्ष रखने का मौका दे। सुप्रीम कोर्ट द्वारा वर्ष 2021 में बॉम्बे अस्पताल के एक केस में कहा था कि मरीज की मौत के हर मामले को चिकित्सीय लापरवाही से जोड़ना गलत है।

सांसद मीणा ने कहा कि डॉक्टर नर्स एवं मेड़िकल स्टाफ की सुरक्षा के लिए केन्द्र सरकार ने वर्ष 2019 में एक बिल का मसौदा तैयार किया गया था लेकिन इसे मंजूरी नहीं मिली। सरकारी और निजी अस्पतालों में तोड़-फोड़, हिंसा या कार्य में बाधा ड़ालने पर परिजनों के खिलाफ कड़ी धाराओं में केस दर्ज किया जाना नितांत आवश्यक है। डॉ. मीणा ने केन्द्र सरकार से डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए संसद से सख्त कानून पास किए जाने की मांग की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here