DNA टेस्ट से पकड़े गए रेपिस्ट : भीलवाड़ा में पड़ोसी युवकों ने घर के पास किया था मूक बधिर से गैंगरेप, 1 का डीएनए भ्रूण से मैच

0
411
डीएनए
翞ææñǸ»É¸U ·¤æðÌßæÜè ÍæÙð ×ð´ àæé·ý¤ßæÚU ·¤æð çÙÚUèÿæ‡æ ·¤ÚUÌè ÂéçÜâ ¥Šæèÿ淤РÂç˜æ·¤æ

चित्तौडग़ढ़ : मूकबधिर युवती से गैंगरेप मामले में शुक्रवार को चित्तौडग़ढ़ पुलिस ने खुलासा किया। युवती से भीलवाड़ा में ही गैंगरेप हुआ था। दोनों संदिग्ध युवक भीलवाड़ा के रहने वाले है। बाड़े में ले जाकर दीपावली के आसपास दरिंदगी हुई थी। पुलिस ने डीएनए टेस्ट के लिए एफएसएल भेजा था। डीएनए एक संदिग्ध से मैच हो गया। भीलवाड़ा पुलिस मामले में अग्रिम कार्रवाई करेगी। मामले खुलासे के बाद गैंगरेप का मामला एक बार फिर भीलवाड़ा पुलिस के पाले में आ गया है।

चित्तौडग़ढ़ पुलिस अधीक्षक प्रीति जैन ने बताया कि 24 जनवरी को भीलवाड़ा के मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में तबीयत बिगडऩे पर उपचार के लिए मूकबधिर युवती को लेकर परिजन आए थे। वहां उसके दो माह की गर्भवती होने का पता चला। हालत खराब होने से तत्काल डीएनसी की गई थी। पीडि़ता मूकबधिर होने से बातचीत के लिए विशेषज्ञों को बुलाया गया। परिजनों से बातचीत में पीडि़ता ने इशारे में बताया कि तीन माह पूर्व साडास में नाड़ी में शौच करने गई। वहां बाइक पर आए दो जनों में से एक ने मुंह दबाकर उसके साथ गैंगरेप किया। इस आधार पर चित्तौडग़ढ़ जिले के साडास थाने में मामला दर्ज किया गया था। मामले के खुलासे के लिए चित्तौडग़ढ़ एएसपी हिम्मतसिंह देवल के नेतृत्व मेें विशेष टीम का गठन किया गया था। टीम ने गंगरार डीएसपी सीताराम बैरवा, सीआई रतनसिंह, शिवलाल मीणा, विक्रमसिंह, सुशाली खोईवाल समेत कई पुलिसकर्मियों को शामिल किया गया।

पैतृक गांव से लेकर भीलवाड़ा तक पुलिस ने की पूछताछ

एसपी जैन ने बताया कि इस मामले को लेकर चित्तौडग़ढ़ पुलिस ने गम्भीरता दिखाई। विशेष टीम ने उसके चित्तौडग़ढ़ जिले में पैतृक गांव से लेकर भीलवाड़ा तक पूछताछ की। परिजनों, पीडि़ता और उसके आसपास रहने वालों से बातचीत की। उसके बाद दो संदिग्धों पर पुलिस की नजर टिकी। घटना उजागर होते ही विष्णु ने मोबाइल बंद कर दिया। पुलिस ने घेराबंदी की तो विष्णु हाथ आया। उसके बाद पूरण को भी हिरासत में लिया गया।

पुलिस ने पीडि़ता से दुबारा से बात करने की कोशिश की। इशारे में पीडि़ता ने बताया कि जहां दूध निकाला जाता है। वहां उसके साथ दरिंदगी हुई। इस आधार पर भीलवाड़ा के एक कॉलोनी में रहने वाले विष्णु कुमार व पूरण कुमार को हिरासत में लिया गया। पुलिस ने वैज्ञानिक परीक्षण के लिए पीडि़ता के भ्रूण से दोनों संदिग्धों से डीएनए मैच के लिए एफएसएल भेजा। वहां विष्णु से डीएनए मैच हुआ। पूछताछ में सामने आया कि विष्णु का पीडि़ता के घर आना-जाना था। उसकी बहन की भी पीडि़ता से जान-पहचान थी।

बाड़े में ले जाकर दरिंदगी

पूछताछ में सामने आया कि दीपावली के आसपास विष्णु अपने साथी पूरण की मदद से पीडि़ता को बाड़े के पास झाडि़यों में ले गया। उसके साथ विष्णु ने बलात्कार किया। इससे वह गर्भवती हो गई। विष्णु मूलत: अजमेर और पूरण राजसमंद जिले का रहने वाला है। दोनों इस समय भीलवाड़ा में ही एक कॉलोनी में रह रहे है। चित्तौडग़ढ़ पुलिस पीडि़ता के धारा 164 में बयान कलमबद्ध करवा रही है। उधर, चूँकि घटनाक्रम भीलवाड़ा में ही हुआ है ऐसे में अग्रिम कार्रवाई भी भीलवाड़ा पुलिस ही करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here