अवैध खनन संयुक्त जांच अभियान, सात दिन 795 वाहन मशीनरी थानोें में जब्त, 2 करोड़ 83 लाख जुर्माना वसूल – एसीएस डॉ. अग्रवाल

  • भीलवाड़ा, जयपुर, जोधपुर, राजसमंद, अजमेर, सिरोही कार्यवाही में आगे
  • जांच अभियान कार्यवाही का हो व्यापक प्रचार ताकि जाएं मैसेज

0
167
खनन

जयपुर। राज्य में अवैध खनन गतिविधियों के खिलाफ 15 मई से चल रहे एक माह के संयुक्त जांच अभियान में पहले सात दिनों में दो करोड़ 83 लाख रुपए से अधिक का जुर्माना वसूला गया है, वहीं 795 वाहन-मशीनरी अभी भी थानों में जब्त है। अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस डॉ. सुबोध अग्रवाल ने अभियान की साप्ताहिक प्रगति की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को संयुक्त जांच अभियान में और अधिक तेजी लाने व की गई कार्यवाही से स्थानीय स्तर पर अधिक से अधिक प्रचारित करने के निर्देश दिए हैं ताकि अवैध खनन, परिवहन और भण्डारण गतिविधियों में लिप्त लोगों में राज्य सरकार द्वारा सख्त कार्यवाही का संदेश जा सके और अवैध गतिविधियों पर कारगर रोक लग सके।

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि राज्य मेें जिला कलक्टरों द्वारा माइंस, राजस्व, पुलिस, परिवहन और वन विभाग के अधिकारियों की संयुक्त टीम का गठन किया गया है। राज्य में गत सात दिनों में अवैध खनन, परिवहन और भण्डारण के 587 प्रकरण सामने आए है इनमें सर्वाधिक 68 प्रकरण जयपुर, 58 प्रकरण भीलवाड़ा, 38 प्रकरण अजमेर 31 प्रकरण जोधपुर 28 सिरोही, 26-26 राजसमंद व नागौर, 24-24 भरतपुर व उदयपुर और 22 प्रकरण बाड़मेर के हैं। उन्होंने बताया कि शेष स्थानों पर 20 से कम प्रकरण बने हैं। उन्होंने बताया कि जांच प्रकरणों में दोषियों के खिलाफ कुल दर्ज 72 एफआईआर में दर्ज कराने वालों में भीलवाड़ा आगे हैं वहां अब तक पुलिस थानों में 31 एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी है। सिरोही में 14 और धौलपुर में 10 एफआईआर दर्ज हुई है। मौके पर 1091 टन खनिज की जब्ती की गई है जिसमें भी भीलवाड़ा आगे हैं। भीलवाड़ा में 625 टन खनिज मौकेपर जब्त किया गया है।

खनन

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि जांच अभियान के दौरान 2 करोड़ 83 लाख का जुर्माना वसूला जा चुका है। इसमें जयपुर अव्वल रहा है। जयपुर ने 23 लाख 70 हजार, जोधपुर ने 22 लाख 75 हजार, सिरोही ने 20 लाख 96 हजार, अजमेर ने 20 लाख 45 हजार, राजसमंद ने 20 लाख 36 हजार, बीकानेर ने 19 लाख 58 हजार रु. का जुर्माना वसूला है। जांच अभियान के दौरान वसूली ना होने वाले 795 वाहन-मशीनरी में से सर्वाधिक 127 भीलवाड़ा व 110 जयपुर के हैं। इसके अलावा 60 वाहन पाली, 51 वाहन भरतपुर, 46-46 वाहन मशीनरी बाड़मेर व सिरोही, 31 वाहन बूंदी व अन्य वाहन मशीनरी अन्य स्थानां की है। प्रदेश में अभी भी 11072 टन जब्तशुदा खनिजों में 1875 टन भीलवाड़ा और 1439 टन से अधिक खनिज जयपुर टीम द्वारा जब्त किया हुआ है।

खनन

निदेशक माइंस केबी पण्डया ने बताया कि समूचे प्रदेश में संयुक्त जांच अभियान का कार्य जारी है। उन्होंने बताया कि इसके सकारात्मक परिणाम भी प्राप्त होने लगे है। अभियान प्रभारी अतिरिक्त निदेशक नरेन्द्र कोठ्यारी को बनाया गया है और कोठ्यारी द्वारा नियमित मोनेटरिंग की जा रही है। संयुक्त जांच अभियान में भीलवाड़ा में अरविन्द नन्दवाना और जिनेश हुमड, जयपुर में अतिरिक्त निदेशक बीएस सोढ़ा के साथ ही एसएमई प्रताप मीणा, एमई कृष्ण शर्मा, उदयपुर में अतिरिक्त निदेशक महेश माथुर व उनकी टीम, जोधपुर व अजमेर में जय गुरुबख्सानी एमएमई जोधपुर धमेन्द्र लुहार, एमई प्रवीण अग्रवाल, जोधपुर वृत में ही भगवान सिंह भाटी, कोटा वृत में महावीर मीणा, अविनाश कुलदीप व उनकी टीम, सलूंबर में दिलीप सुथार और बीकानेर कीर टीम द्वारा उल्लेखनीय कार्य किया जा रहा है। समीक्षा बैठक में डीएस राजेन्द्र मक्कड, नीतू बारुपाल, अतिरिक्त निदेशक बीएस सोढ़ा, ओएसडी महावीर प्रसाद मीणा, अतिरिक्त निदेशक अजय शर्मा, एसजी सुनील वर्मा आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here