निर्माणाधीन वेदना निवारण केन्द्र के सहयोगियों का किया सम्मान 

- पंचकुंडीय गायत्री महायज्ञ के साथ नववर्ष स्नेह मिलन समारोह आयोजित

0
765
वेदना

जयपुर। किरण पथ मानसरोवर स्थित वेदना निवारण केन्द्र में शनिवार को कार्यकर्ता गोष्ठी एवं नव वर्ष मिलन समारोह आयोजित किया गया। प्रारंभ में पंचकुंडीय गायत्री महायज्ञ हुआ। वेदमाता और गुरू सत्ता के सोडशोपचार पूजन के बाद गायत्री एवं महामृत्युंजय महामंत्र के साथ आहुतियां अर्पित की गई। कोरोना निवारण के लिए विशिष्ट मंत्रों से भी आहुतियां अर्पित की गई। इस मौके पर गायत्री परिवार राजस्थान प्रभारी एवं समन्वयक ओमप्रकाश अग्रवाल, पुष्कर उप जोन प्रभारी दिलीप पंवार, गायत्री शक्तिपीठ ब्रह्मपुरी के व्यवस्थापक रणवीर सिंह चौधरी के अलावा सतीश भाटी, वेदना निवारण केन्द्र के व्यवस्थापक नेतराम शर्मा, डॉ. प्रशांत भारद्वाज ने वेदना निवारण केन्द्र में सहयोग करने वाले लोगों का माल्यार्पण, तिलक और दुपट्टा पहनाकर अभिनंदन किया।

वेदना

गायत्री परिवार की दुर्गापुरा, मानसरोवर, विद्याधरनगर सहित विभिन्न शाखाओं के कार्यकर्ताओं का सम्मान कर उनके सहयोग की सराहना की गई। अपनो से अपनो के सम्मान से पूर्व व्यासपीठ से यज्ञ संपन्न करवाते हुए दिनेश आचार्य ने अपने सहयोगी धर्मेंद्र सोलंकी और डेमन के साथ  चलो गुरूदेव के सपने सजाने की शपथ ले ले…, मानवता का पतन देखकर आज धरा अकुलाई है देव शक्ति ने मिल जुलकर दुर्गा शक्ति जगाई है…आओ जीये देश और समाज के लिए बहुत जी लिए तख्तो ताज के लिए…जैसे प्रज्ञागीतों से माहौल को प्रेरणादायी बनाए रखा।

वेदना

पीडि़तों की वेदना का होगा निवारण

गायत्री परिवार के वरिष्ठ कार्यकर्ता गिरधर गोपाल आसोपा ने कहा कि मिशन का यह पहला वेदना निवारण केन्द्र होगा जहां पीडि़त मानवता की वेदना का सच्चे अर्थों में निवारण होगा। यहां अनाथ बच्चों की निशुल्क शिक्षा और आवास की व्यवस्था के साथ-साथ अनेक परोपकारी प्रकल्प संचालित होंगे। इसलिए इसके निर्माण के लिए तन-मन-धन से सहयोग करना चाहिए। आपके सहयोग का यह पौधा समय पाकर वृक्ष बनकर न जाने कितने लोगों को छांव देगा। उन्होंने कहा कि अच्छे कार्यों के लिए सदैव संकल्पित होना चाहिए। संकल्प लेता तो इंसान है मगर उसे पूरा करने की शक्ति भगवान देता है।

वेदना

देशभर में बनेगा सेवा की मिसाल

गायत्री परिवार राजस्थान प्रभारी एवं समन्वयक ओमप्रकाश अग्रवाल ने बताया कि केन्द्र का निर्माण एक साल में पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है। यहां अनेक सेवा और रचनात्मक कार्य होंगे। बहुमंजिला भवन देशभर में सेवा कार्य की मिसाल बने, ऐसा प्रयास किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here