परशुराम कुंड आमंत्रण यात्रा का कांचीपुरम से शुभारंभ

- अरुणाचल स्थित परशुराम कुंड के लिए निकला विप्र फाउंडेशन का "अमृत भारत रथ"
- भगवान परशुराम जी के समरसतामूलक संदेश को पहुंचाएगा जन-जन तक
- यात्रा के प्रथम चरण का समापन 8 जनवरी को होगा गोविंद नगरी जयपुर में

0
1345
परशुराम कुंड आमंत्रण यात्रा का कांचीपुरम से शुभारंभ

कांचीपुरम। श्री विष्णु के छठे अवतार चिरंजीवी भगवान परशुराम के अरूणाचल प्रदेश स्थित सबसे बड़े तीर्थस्थल से सम्पूर्ण देश को साक्षात करवाने के उद्देश्य से “परशुराम कुंड आमंत्रण यात्रा” बुधवार को कांचीपुरम से रवाना हुई। भगवान परशुराम के समरसतामूलक कार्यों के बारे में जन-जन को अवगत करवाने वाली इस यात्रा का संयोजन विप्र फाउंडेशन कर रहा हैं। यात्रा के लिए “अमृत भारत रथ” तैयार किया गया हैं जिसे आज आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित कांची कामकोटि मठ और कामाक्षा मंदिर से पूजन व वैदिक अनुष्ठान कर परशुराम कुंड क्षेत्र के विधायक कारिखो क्रि ने रवाना किया।

परशुराम कुंड आमंत्रण यात्रा का कांचीपुरम से शुभारंभ

भारत की विभिन्न संस्कृतियों को जोड़ने वाली इस 61 दिवसीय यात्रा का पहला चरण 8 जनवरी 2023 को जयपुर में पूरा होगा। जयपुर से ये यात्रा अन्य प्रदेशों में जन जागृति करते हुए अरूणाचल स्थित परशुराम कुंड तीर्थ पहुंच सम्पन्न होगी। परशुराम कुंड तीर्थ विकास में विप्र फाउंडेशन भी सहभागी है जो यहां भगवान परशुरामजी की 51 फ़ीट की पंचधातु मूर्ति प्रतिष्ठित करवा रहा हैं।

परशुराम कुंड आमंत्रण यात्रा का कांचीपुरम से शुभारंभ

कांचीपुरम से सेलम के रास्ते रवाना हुई यात्रा से पूर्व एक धर्मसभा का भी आयोजन किया गया, जिसमे अरुणाचल के विधायक कारिखो क्रि के साथ श्रीचंद्रशेखरेंद्र सरस्वती विवि के कुलपति डॉ.एस वी राघवन मुख्य वक्ता थे। अध्यक्षता मूर्ति प्रतिष्ठा प्रकल्प के मुख्य संयोजक व विधायक धर्मनारायण जोशी ने की। तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रदेश होते हुए राजस्थान के जयपुर पहुंचने वाले इस अमृत भारत रथ के मुख्य सारथी तपोवन के स्वामी चिरंजीवी रामनारायण दास है। ये रथ विभिन्न शहरों, कस्बों व ग्रामीण अंचलों से जन जागरण करता गुजरेगा।

परशुराम कुंड आमंत्रण यात्रा का कांचीपुरम से शुभारंभ

पीले चावल द्वारा आमंत्रण देंगे
परशुराम कुंड आमंत्रण यात्रा पर निकले विप्र फाउंडेशन के अमृत भारत रथ में मंदिर बना है जिसमें अरूणाचल प्रदेश में स्थापित की जाने वाली 51′ पंचधातु मूर्ति की नयनाभिराम प्रतिकृति विराजमान है। रथ पर विभिन्न भाषाओ में संदेश वाले आकर्षक बैनर पोस्टर होर्डिंग लगे हैं। विप्र फाउंडेशन के मूर्ति प्रकल्प सहित यात्रा का उद्देश्य बताते विभिन्न भाषाओं में हैंडबिल, आमंत्रण देने हेतु पीले चावलों के पैकेट्स का भंडार भी रथ में है।

परशुराम कुंड आमंत्रण यात्रा का कांचीपुरम से शुभारंभ

एक करोड़ लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य
अमृत भारत रथ के माध्यम से प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से 1 करोड़ लोगों तक परशुराम जीवन चरित्र और उनके समरसता मूलक कार्यों का संदेश पहुंचाने का लक्ष्य है।

शुभारंभ में इनकी भी रही उपस्थिति
परशुराम कुंड आमंत्रण यात्रा के शुभारंभ अवसर पर विफा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्रीकांत पाराशर, राधेश्याम सिखवाल, राष्ट्रीय महामंत्री भगवान व्यास, राष्ट्रीय मंत्री हरिराम सारस्वत, तमिलनाडू के अध्यक्ष श्रवण वोहरा, महामंत्री किशोर शर्मा, रथ यात्रा समिति सदस्य सुरेश सारस्वत सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here