आरएलपी सांसद बेनीवाल ने किसानों के लिए विशेष आर्थिक पैकेज व फसल बीमा योजना में विसंगतियां दूर करवाए गहलोत सरकार – बेनीवाल

बेनीवाल

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक व नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर हाल ही में राजस्थान के विभिन्न जिलो में हुई बारिश से किसाने की खेत में खड़ी तथा कटी हुई फसले चौपट हो जाने पर किसानों को विशेष आर्थिक पैकेज देने की मांग की है। सांसद बेनीवाल ने कहा कि प्रकृति की इस मार से अन्नदाताओ के हालात और अधिक दयनीय हो गई है। उन्होंने पूर्व में सोशल मिडिया के माध्यम से उनके द्वारा की गई इस मांग की तरफ भी सीएम का ध्यान आकर्षित करते हुए लिखा कि राजस्थान सरकार ने अब तक किसानो के हुए नुकसान को लेकर किसी प्रकार की कोई राहत आर्थिक पैकेज के रूप में नहीं दिया।

बेनीवाल ने बताया कि पूर्व में समय पर बारिश नहीं होने से किसान समय पर खरीफ फसलो कि बुवाई नहीं कर सके और जब फसल काटने का समय आया तो अतिवृष्टी के कारण किसानो कि खड़ी तथा कटी फसले नष्ट हो गई, जिससे अन्नदाताओ को भारी नुकसान हुआ है इसलिए तत्काल प्रभाव से किसानो के लिए विशेष आर्थिक पैकेज दिया जाए।

यह कहा फसल बीमा योजना को लेकर

सांसद बेनीवाल ने सीएम को लिखे अपने पत्र में बताया कि दिनांक 17.06.2021 को राजस्थान सरकार के कृषि विभाग के प्रमुख शासन सचिव द्वारा अधिसूचना जारी कर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत खरीफ की फसलो कि बुआई का समय निर्धारित कर दिया गया। उदाहरण स्वरूप नागौर जिले मे सभी फसलो की बुआई 31 जुलाई 2021 अंतिम तिथि रखी, जबकि विभागीय आंकड़ो के अनुसार 29 जुलाई 2021 तक 12.10 लाख हैक्टेयर कि तुलना में लगभग 8 लाख हैक्टेयर मे ही बुआई हो पाई। फसलो की कटाई का समय भी 30 सितम्बर 2021 निर्धारित किया गया,जबकि पछेती बुआई के मूंग अभी पके भी नहीं है ऐसे में फसलो कि बुआई व कटाई का समय निर्धारित करना किसानो के साथ भद्दा मजाक है, क्योंकि उक्त फसलो कि पूर्णतया निर्भरता मानसून पर है ऐसे में कटाई व बुआई का शासन द्वारा समय निर्धारण करना किसी भी दृष्टि से उचित नहीं है। साथ ही फसल बीमा योजनान्तर्गत कार्यरत बीमा कम्पनियों कि मनमर्जी से भी किसान परेशान है।

aaaaa

 

कम्पनियों द्वारा दिये गये टोल फ्री नम्बरो पर फोन नहीं लगते जिससे किसानो को उनके द्वारा करवाये गये बीमे का क्लेम लेने हेतु भी दर-दर भटकना पड़ता है। फसल बीमा योजनान्तर्गत किसानो के खातो से प्रीमियर कि राशि काट लेने के बावजूद समय पर बीमा कम्पनी के प्रतिनिधियों व अन्य जिम्मेदारो द्वारा पोर्टल पर सूचना अपडेट नहीं करने, गलत पटवार सर्किल अंकित करने आदि से किसानों को समस्या का सामना करना पड़ता है। ऐसे में सांसद ने गहलोत से व्यक्तिशः संज्ञान लेकर उक्त विसंगतियों को दूर करके समाधान करने की मांग की वही सांसद ने मामले को लेकर कृषि मंत्री लालचंद कटारिया को भी अवगत करवाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *