हाईकोर्ट ने डेयरी सुपरवाइजर ग्रेड-3 में अयोग्य अभ्यर्थियों की नियुक्ति पर लगाई रोक, RCDF सचिव- मैनेजर से मांगा जवाब

SI खेल कोटा भर्ती-2019 नियुक्ति भी रोकी

0
368
हाईकोर्ट ने डेयरी सुपरवाइजर ग्रेड-3 में अयोग्य अभ्यर्थियों की नियुक्ति पर लगाई रोक, RCDF सचिव- मैनेजर से मांगा जवाब

जयपुर: राजस्थान हाईकोर्ट ने डेयरी सुपरवाइजर ग्रेड-3 भर्ती में अयोग्य अभ्यर्थियों को नियुक्ति देने पर रोक लगाते हुए जवाब तलब किया है। राजस्थान कॉपरेटिव डेयरी फेडरेशन जयपुर की ओर से सलेक्ट किए गए अयोग्य अभ्यर्थियों की नियुक्ति पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है। साथ ही राजस्थान कॉपरेटिव भर्ती बोर्ड के सचिव और मैनेजर आरसीडीएफ और सलेक्टेड अभ्यर्थियों हंसा चौधरी, सुरेन्द्र कुमार, मनोहर लाल, सुखदीप कौर से जवाब मांगा है। 3 सप्ताह बाद हाईकोर्ट में मामले की अगली सुनवाई होगी। जस्टिस इंद्रजीत सिंह ने यह आदेश सुभाष चन्द्र यादव और अन्य की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया।

अयोग्य अभ्यर्थियों के सलेक्शन, योग्य बाहर

एडवोकेट राम प्रताप सैनी ने कहा कि उन्होंने याचिका में कोर्ट को बताया साल 2021 में 503 पदों पर हुई भर्तियों में से 13 पद डेयरी सुपरवाइजर ग्रेड-3 के थे। इन पदों के लिए 3 साल का सचिव पद पर काम करने का अनुभव चाहिए था। दुग्ध उत्पादन सहकारी समिति से याचिकाकर्ता के पास विज्ञापन के मुताबिक एक्सपीरियंस सर्टिफिकेट है। लेकिन सलेक्टेड कैंडिडेट्स के पास सचिव पद पर काम करने का एक्सपीरियंस सर्टिफिकेट नहीं है।

उनके पास प्रयोगशाला सहायक और सहायक सचिव का सर्टिफिकेट है। जोकि नियम विरुद्ध है। इन अयोग्य अभ्यर्थियों को शामिल करने की वजह से याचिकाकर्ता का सलेक्शन नहीं हुआ। इस पर हाईकोर्ट ने नोटिस जारी कर नियुक्ति पर रोक लगा दी है।

सब इंस्पेक्टर भर्ती-2019 खेल कोटा नियुक्ति पर रोक

एडवोकेट रामप्रताप सैनी ने बताया कि एक दिन पहले हाईकोर्ट ने सब इंस्पेक्टर भर्ती – 2019 में खेल कोटे से नियुक्ति पर भी रोक लगा दी है। साथ ही होम सेक्रेट्री और राजस्थान पुलिस डीजी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक से जवाब मांगा है। यह आदेश भी जस्टिस इंद्रजीत सिंह ने दिए हैं। दौसा निवासी जग दातार सिंह की याचिका पर एडवोकेट रामप्रताप सैनी ने पैरवी की। जिन्होंने कोर्ट को बताया कि 23 दिसम्बर 20019 को 74 पदों पर भर्ती के लिए कुश्ती, वॉलीबॉल, शूटिंग हैंडबाल, हॉकी समेत बाकी खेलों के लिए खेल भर्ती निकाली गई।

13 जनवरी 2020 को जयपुर के एसएमएस स्टेडियम में ट्रायल एग्जाम हुआ। जिसमें याचिकाकर्ता का प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा। उसके पास नेशल लेवल का स्पोर्ट्स सर्टिफिकेट भी है। जबकि सलेक्ट किए गए कैंडिडेट का खेल अच्छा नहीं रहा। 25 जनवरी 2020 को सलेक्शन में उसका चयन नहीं किया गया। उससे जूनियर को सलेक्ट कर लिया गया। जोकि खेल कोटे से भर्ती में अनियमितता है। इसलिए पूरा रिकोर्ड मंगवाया जाए और नियुक्ति पर रोक लगाई जाए। जिस पर कोर्ट ने नियुक्ति पर रोक लगाते हुए संबंधित अधिकारियों से जवाब मांगा है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here