‘टर्टल‘ फिल्म में हमनें राजस्थान का जल संकट किया उजागर – अशोक चौधरी

  • फ़िल्में बनाने के पीछे हमारा उद्देश्य एंटरटेनमेंट, इंस्पीरेशन व अवेर्नेस
  • पहली नेशनल अवॉर्ड जीतने वाली फिल्म ‘टर्टल’ के निर्माता हैं अशोक चौधरी

0
384
टर्टल

जयपुर। राजस्थानी भाषा की फिल्मों के इतिहास में पहली बार 66वे राष्ट्रपति पुरस्कार समारोह में नेशनल अवॉर्ड से नवाजी गई फिल्म ‘टर्टल’ के निर्माता अशोक चौधरी का कहना है कि यह फिल्म राजस्थान के गांवों में पनप रहे जल संकट की एक वास्तविक घटना का काल्पनिक रूपान्तरण है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की फिल्म हमारे भविष्य को दर्शाने के लिए बहुत आवश्यक है ताकि जल संकट के बारे में जागरूकता फैल सके। उन्होंने कहा कि ये फिल्म जल संकट को लेकर तीसरे विश्वयुद्ध की ओर इशारा करती है। कोविड के चलते ये फिल्म सिनेमा घरों में प्रदर्शित नहीं हो पाई थी। आपको जानकर ख़ुशी होगी कि फ़िल्म को 190 देशों में ओटीटी प्लेटफार्म पर 31 दिसम्बर को रिलीज़ किया जा चुका है ओर लोगों ने फ़िल्म को बहुत ज़्यादा सराहा है। जिसको गूगल पर 94%से ज़्यादा लोगों ने पसंद किया है अब 20 और 21 जनवरी को इसका वर्ल्ड टेलिविजन प्रीमियर किया जा रहा है।

गर्व की बात है कि राजस्थानी सीनेमा अब बॉलीवुड व अन्य राज्यों की भाषा फ़िल्मों कीं तरह विश्वभर में अपनी जड़े जमा रहा है जिससे राजस्थान की कला संस्कृत व पर्यटन को नई पहचान मिलेगी। इस फिल्म का निर्देशन दिनेश एस. यादव ने किया है। प्रतीक चालना फिल्म के एसोसिएट प्रोड्यूसर हैं और समीर पहाड़ियां कास्टिंग डायरेक्टर। मुख्य भूमिका में जाने माने अभिनेता संजय मिश्रा हैं। फिल्म में संजय मिश्रा के अलावा अंकित अनिल शर्मा, आमोल देशमुख और मोनिका शर्मा सहित कई कलाकारों ने अभिनय किया है। इस फिल्म की खास बात ये है कि इसमें जयपुर और राजस्थान के ज़्यादातर कलाकारों को मौका दिया गया है साथ ही इसकी कम्प्लीट शूटिंग भी जयपुर सहित राजस्थान के विभिन्न शहरों व गाँवों में ही की गई है। अशोक इससे पहले हिंदी फीचर फिल्म ‘वाह जिंदगी’ का भी निर्माण कर चुके हैं। इसका वर्ल्ड टेलिविजन प्रीमियर 6 और 7 जनवरी को किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here