नेट थियेट पर गीत गोविन्द खूब जमां

- ब्रज की गोपी मोहे सतावै, घर ले जाकर नाच नचावै

0
111
नेट थियेट

जयपुर। नेट-थियेट कार्यक्रमों की श्रृंखला में आज गीत गोविन्द कार्यक्रम में उभरते कलाकार घनश्याम प्रजापत और आशीष शर्मा दौसा ने अपने मधुर वाणी में भजनों की ऐसी रसगंगा बहाई की श्रौता कृष्ण की भक्ति में लीन हो गये। नेट-थियेट के राजेन्द्र शर्मा राजू ने बताया कि कार्यक्रम में घनश्याम प्रजापत ने जय गणपति वदन गणनायक की गणेश वंदना से कार्यक्रम की शुरूआत की। भजन अब ना चराउं तेरी गइया, यशोदा मइया सुनाया तो पूरा माहौल कृष्णमयी हो गया।

प्रजापत ने कभी दानी शिरोमणी कहलाये भजन सुनाया l उसके बाद तेरी तिरछी नजर में है जादू, ये कैसा कमाल तुम्हारा है, तुम बिन मांगे ही देते हो, हम शुक्रगजारा करतें है भी सुनाया। इसके बाद दौसा से आए कलाकार आशीष ने अपनी पुरकशिश आवाज में कभी-कभी भगवान को भी भक्तों से काम पडे गाया तो श्रौता वाह-वाह कर उठे। उसके बाद उन्होंने वो काला एक बांसुरी वाला, ओ कान्हां अब तो मधुर सुनादो तान और अंत में मतकर तू अभिमान रे बंदे झूंठी तेरी शान गाकर माहौल को खुशनुमा बना दिया।

इनके साथ तबले पर इमरान खान ने अपनी उंगलियों को ऐसा जादू बिखेरा कि श्रौता मंत्रमुग्ध हो गये तथा सितार पर नसरुद्दीन खान ने असर दार संगत की। कैमरा संचालन जितेन्द्र शर्मा, प्रकाश मनोज स्वामी, मंच व्यवस्था अंकित शर्मा नोनू और जीवितेश शर्मा का रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here