महंगाई के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन : पायलट बोले- केंद्र आर्थिक आतंक थोप रहा है, इन्हें घमंड में राज करने की आदत पड़ी

0
137
पायलट

जयपुर : पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने महंगाई सहित कई अन्य मुद्दों को लेकर केंद्र सरकार पर हमला बोला। जयपुर में महंगाई के खिलाफ धरने में सचिन पायलट ने कहा कि केंद्र सरकार से लगातार आर्थिक आतंक थोपा जा रहा है। यह केवल बढ़ी हुई कीमतों का ही सवाल नहीं है। बीजेपी को घमंड और अहंकार में राज करने की आदत पड़ गई है। इन्हें लगता है कि चुनाव आएंगे तो हम 80 बनाम 20 की बात करेंगे। हिंदू मुस्लिम के नाम पर भड़काएंगे। लोगों में भावनाएं पैदा करके वोट ले लेंगे। इस सरकार की आर्थिक नीतियां देश को खोखला कर रही हैं।

किसानों के खाते में दो हजार रुपए डालकर उनके हकों पर लाखों करोड़ों की डकैती डाली जा रही है। केंद्र सरकार सब कुछ बेचने में लगी है। देश की सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियां, संपत्तियां बेचने के बाद जो आमदनी हो रही है, उसका फायदा चंद लोगों को दिया जा रहा है। पायलट ने कहा कि आज कौन व्यक्ति पेट्रोल-डीजल भरवाते वक्त दुखी नहीं है। जो व्यक्ति 15-20 हजार रुपए कमाकर अपना पेट पालता है, वह इस महंगाई में कैसे परिवार चलाएगा? हमें उस व्यक्ति की आवाज बनकर उसका साथ देना होगा, उसके साथ खड़ा होने की जरूरत है।

राज्य सरकारों को आय में हिस्सा नहीं दे रहा केंद्र

सचिन पायलट ने कहा कि केंद्र सरकार राज्यों को आय में हिस्सा नहीं दे रही है। संघीय प्रणाली में आय का विभाजन होता है, आजादी के बाद से यह होता आया है। केंद्र सरकार ने अब सेस लगाकर अपने पास ज्यादा हिस्सा रखना शुरू कर दिया। भाजपा सरकार ने सात साल में 1 लाख 28 हजार करोड़ रुपए पेट्रोल-डीजल पर सेस लगाकर कमाए हैं। इस दौरान राज्य सरकारों को आय में हिस्सा नहीं दे रहा है। आज पेट्रोल-डीजल ही नहीं कुकिंग ऑयल से लेकर रोजमर्रा इस्तेमाल होने वाली हर चीज के दाम आसमान छू रहे हैं। हम सबका यह दायित्व है कि हम इसके खिलाफ आवाज उठाएं। बीजेपी के किसाी मंत्री-नेता ने महंगाई को लेकर एक शब्द तक नहीं बोला।

जजों को पॉलिटिकल पोस्टिंग दी

पायलट ने कहा कि कोरोना काल में हर बड़े देश ने सीधा लोगों को पैसा दिया ताकि उनकी मदद हो और पर्चेजिंग पावर बढ़े। केंद्र ने 20 लाख करोड़ के आ​र्थिक पैकेज घोषणा की। वह पैसा किसे दिया, वह पैकेज किसी के पास पहुंचा क्या? किसी के पास नहीं पहुंचा। यह पहली सरकार है जिसने सुप्रीम कोर्ट के जजों को राज्यसभा भेजा, जिसने पूर्व चीफ जस्टिस को राज्यपाल बनाया और जजों को पॉलिटिकल पोस्टिंग दी। देश में ऐसा माहौल बना है जिसका मुकाबला करना बहुत जरूरी है।

सेना में 1 लाख 22 हजार पद खाली क्यों?

पायलट ने कहा कि बीजेपी वाले भी जानते हैं बार-बार यह चलने वाला नहीं है, उनका यह नकाब उतरेगा। कई जगह यह नकाब उतरना शुरू हो गया है। बीजेपी के लोग सेना के शौर्य और वीरता की बातें करते हैं। भारतीय सेना में 1 लाख 22 हजार पद खाली पड़े हैं, इसका जवाब कौन देगा? एक तरफ सेना के पद खाली चल रहे हैं दूसरी तरफ सेना भर्ती रैलियां ही नहीं हो रही हैं। पायलट ने कहा कि बीजेपी से मुकाबला करने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं और हमें ज्यादा मेहनत करनी होगी। बीजेपी नेताओं को लगता जनता ऐसे ही वोट देती रहेगी। समय जरूर बदलेगा। हमें जहां जहां पार्टी का आदेश मिलेगा वहां-वहां जाकर आवाज उठाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here