कैबिनेट बैठक में 18+ को फ्री कोरोना बूस्टर डोज, 15 जुलाई से सरकारी अस्पतालों में लगवा सकेंगे

- दूसरा बड़ा फैसला- 2798 करोड़ रुपए का तरंगा हिल-अंबाजी-आबू रोड रेलवे प्रोजेक्ट मंजूर

0
317
बूस्टर डोज

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में दो बड़े फैसले लिए गए हैं। कैबिनेट की बैठक में लिए गए निर्णयों की जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर बताया कि 15 जुलाई से अगले 75 दिनों में 18 साल से ज्यादा की उम्र वालों को फ्री में कोरोना वैक्सीन का बूस्टर डोज लगवा सकेंगे। 27 सितंबर तक ये फ्री बूस्टर डोज लगवाया जा सकेगा। ये बूस्टर डोज सरकारी केंद्रों पर उपलब्ध रहेगा। उन्होंने बताया कि इस समय देश में 199 करोड़ वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी हैं। इसके अलावा तरंगा हिल-अंबाजी-आबू रोड को रेलवे नेटवर्क से जोड़ने को भी मंजूरी दी गई।

अभी तक 18-59 साल के उम्र की 77 करोड़ की टारगेट पॉपुलेशन में से 1% से भी कम को प्रिकॉशन डोज मिली है। 60 साल और उससे अधिक उम्र की करीब 16 करोड़ एलेजिबल आबादी और हेल्थ केयर और फ्रंटलाइन वर्कर में से लगभग 26% को बूस्टर डोज मिली है। कुछ दिन पहले सरकार ने बूस्टर डोज लेने के अंतराल को भी घटा दिया था। पहले दो डोज लेने के 9 महीने बाद ही कोई बूस्टर लगवा सकता था, लेकिन अब उस समय को भी 6 महीना कर दिया गया है। ICMR और अन्य इंटरनेशनल रिसर्च सेंटर्स की स्टडी से पता चलता है कि वैक्सीन की दोनों खुराक के लगभग छह महीने बाद एंटीबॉडी का लेवल कम हो जाता है। बूस्टर डोज देने से इम्यून रिस्पॉन्स बढ़ता है।

गुजरात और राजस्थान के सीमांत क्षेत्र नागरिकों को मिलेगी सुविधा

वहीँ, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने तरंगा हिल-अंबाजी-आबू रोड को रेलवे नेटवर्क से जोड़ने की मंजूरी दी। 116 किलोमीटर लंबी इस रेलवे लाइन का काम 4 साल में पूरा किया जाएगा। इस पर 2798 करोड़ रुपए खर्च आएगा। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस नई रेलवे लाइन से गुजरात और राजस्थान के सीमांत क्षेत्र में रहने वाले नागरिकों को सुविधा मिलेगी। राजस्थान और गुजरात के महत्वपूर्ण स्थान को इससे जोड़ने का काम किया जाएगा। गुजरात के वड़ोदरा में सेंट्रल यूनिवर्सिटी स्थापित की जाएगी। इसका नाम गतिशक्ति विश्वविद्यालय रखा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here