किसानो का रेल रोको आंदोलन , राजस्थान में भी कई रूटो की ट्रेनें रही प्रभावित

0
486
किसानो का रेल रोको आंदोलन , राजस्थान में भी कई रूटो की ट्रेनें रही प्रभावित |
जयपुर रेलवे स्टेशन के बाहर विरोध-प्रदर्शन करते प्रदर्शनकारी

जयपुर: लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के खिलाफ किसानों ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र को बर्खास्त करने व मुकदमे में गिरफ्तार करने की मांग को लेकर सोमवार को रेल रोको आंदोलन किया गया। इसका असर राजस्थान में भी देखने को मिला। राज्य के कई जिलों में किसानों ने रेलवे ट्रैक पर कब्जा जमा लिया है। इससे वहां से गुजरने वाली ट्रेनों को रोका गया। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर अलवर जिले के रामगढ़ क्षेत्र में प्रदर्शनकारियों ने मथुरा-अलवर पैसेंजर ट्रेन को रोक दिया।

रेल रोको आंदोलन की वजह से अजमेर जिले में भी इंटरसिटी एक्सप्रेस और भुज-बरेली एक्सप्रेस को अलवर रेलवे स्टेशन पर एहतियात के तौर पर रोक लिया गया। ये दोनों ट्रेन अजमेर नहीं पहुंच सकी। किसान आंदोलन के कारण उत्तर-पश्चिम रेलवे पर भिवानी-रेवाड़ी, सिरसा-रेवाड़ी, लोहारू-हिसार, सूरतगढ़-बठिंडा, सिरसा-बठिंडा हनुमानगढ़-बठिंडा, रोहतक-भिवानी, रेवाड़ी-सादुलपुर, हिसार-बठिंडा, हनुमानगढ़-सादुलपुर तथा श्रीगंगानगर- रेवाड़ी रेलखंडों के बीच रेल यातायात प्रभावित हुआ है।

जयपुर के स्टेशनों मे रेल रोकने में नाकाम रहे प्रदर्शनकारी
किसानो का रेल रोको आंदोलन के प्रदर्शनकारी जयपुर में ट्रेन रोकने में नाकाम रहे। यहां जयपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंचे प्रदर्शनकारियों को आरपीएफ के जवानों और पुलिस ने रेलवे स्टेशन के अंदर ही घुसने नहीं दिया। इसके अलावा गांधी नगर रेलवे स्टेशन, दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन, कनकपुरा स्टेशन, जगतपुरा और अन्य प्रमुख जगहों पर पहले से ही जीआरपी, आरपीएफ और स्थानीय पुलिस का जाब्ता तैनात कर दिया गया। इससे प्रदर्शनकारी जयपुर शहर के स्टेशनों पर ट्रेन रोकने में नाकाम रहे। इन्होंने जयपुर रेलवे स्टेशन के बाहर ही विरोध-प्रदर्शन किया।

हनुमानगढ़ में ट्रेन रोकते हुए प्रदर्शनकारी
हनुमानगढ़ में ट्रेन रोकते हुए प्रदर्शनकारी

पंजाब से राजस्थान आने वाली सभी ट्रेनें प्रभावित
किसान नेताओं ने हनुमानगढ़ में भी ट्रेन रुकवाई। श्रीगंगानगर जिले में भी किसानों ने रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन किया। इससे पंजाब से राजस्थान आने वाली ट्रेनों पर असर पड़ा। पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार किसान नेता सुबह ही रेलवे स्टेशन के पास जुटने लगे। इसके बाद किसान नेताओं ने सुबह करीब 10 बजे अबोहर-बठिंडा पैसेंजर के सामने ट्रैक पर बैठ गए। रेलवे पुलिस ने आंदोलन कर रहे किसानों की वीडियोग्राफी की।

रेलवे ट्रैक पर जमा होकर किसानों ने लोक गीत गाकर नाचते हुए प्रदर्शन किया। इस दौरान किसानों ने भीमराव अम्बेडकर और भगत सिंह के चित्र भी ट्रैक पर रखे थे। किसानों के विरोध प्रदर्शन से सवाई माधोपुर जंक्शन से जाने वाली व आने वाली ट्रेनों का आवागमन बाधित रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here