अन्नपूर्णा शर्मा ने सशक्त अभिनय से औरतों की पीड़ा को दर्शाया

- औरतों की दुनियाँ का मार्मिक मंचन

0
82
अभिनय

जयपुर : रवींद्र मंच के मिनी थिएटर में नाटक औरतों को दुनिया का मार्मिक मंचन किया गया। वीणा पाणी कला मंदिर की इस प्रस्तुति मैं रंगकर्मी अन्नपूर्णा शर्मा ने अत्यंत भावपूर्ण अभिनय करके दर्शकों पर अपनी छाप छोड़ी। पंकज सुबीर द्वारा लिखित इस कहानी का नाट्य रूपांतरण एवं निर्देशन रंगकर्मी तपन भट्ट ने किया।

नाटक में दो भाइयों के परिवार में आपसी प्यार और लड़ाई को बहुत ही ख़ूबसूरती से मंचित किया गया। औरतों की दुनिया बहुत गहरी और अलग किस्म की होती है। इस दुनिया की भीतरी परतों तक शायद ही कोई मर्द पहुंच पाता हो। घर के दो मर्द जब आपस में लड़ाई करते हैं तो बाहरी समाज शायद यही सोचता है कि इनकी पत्नियां इन्हें भड़काती हैं और इन्ही के कारण भाइयों में मतभेद हैं। सारे ताने, सारे इल्जाम औरतों को ही झेलने पड़ते हैं। परंतु कोई जानता नहीं की परिवार के मर्दों की आपस की लड़ाई में औरतें कितना कुछ खो देती हैं और इन रिश्तों की दुनियां मे जब कोर्ट कचहरी का आगमन होता है तो सबसे ज़्यादा तकलीफ औरतों को ही होती है।

अभिनय

औरतें अपनी एक ऐसी दुनियां चाहती हैं जहां कोई मतभेद, झगड़ा, ईर्ष्या, द्वेष नहीं हो। हो तो बस प्यार, सौहार्द और अपनापन। बस औरतों की दुनिया ऐसी ही दुनिया होती है। प्रस्तुति में अन्नपूर्णा ने दो भाई उनकी पत्नी एवं बच्चों सहित अलग-अलग करीब 10 पात्रों को बड़ी खूबसूरती से पेश किया। नाटक में प्रकाश व्यवस्था दीपक गुप्ता की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here