REET मामला : भाजपा CBI जांच की मांग को लेकर 15 को सरकार को विधानसभा के भीतर और बाहर एक साथ घेरेगी

0
382
REET

जयपुर। बीजेपी REET पेपर लीक और धांधली मामले की CBI जांच की मांग पर आंदोलन और तेज करते हुए 15 फरवरी को विधानसभा के बाहर और सदन के अंदर सरकार को घेरेगी। उस दिन विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर चल रही बहस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का जबाव आना है। इसी दिन सरकार का विरोध करने के लिए बीजेपी ने खास रणनीति तैयार की है। सरकार CBI जांच की मांग नहीं मान रही है। बीजेपी अड़ी हुई है कि वह 26 लाख युवाओं और उनके परिवार के 1 करोड़ सदस्यों से जुड़ी मांग से पीछे नहीं हटेगी।

बीजेपी ने सदन के अंदर और बाहर पुरजोर तरीके से इस मांग को फिर उठाने और सरकार को घेरकर बेरोजगार युवाओं और उनके परिवारों को चुनावी साल से पहले मैसेज देने की तैयारी में है। 15 फरवरी को बीजेपी और उसके अलग-अलग मोर्चे विधानसभा का घेराव करेंगे। बीजेपी प्रदेश युवा मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा, महिला मोर्चा, जयपुर शहर, जयपुर देहात, जयपुर उत्तर और दक्षिण से जुड़े बीजेपी पदाधिकारी-कार्यकर्ताओं के साथ पार्टी के प्रदेश पदाधिकारी भी विरोध प्रदर्शन में शामिल होंगे। जबकि विधानसभा में बीजेपी विधायक नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया के नेतृत्व में सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करने की तैयारी में हैं। बीजेपी का यह प्रदर्शन प्रदेश सरकार के साथ ही जयपुर जिला प्रशासन और पुलिस के लिए भी चिन्ता का कारण बन गया है। इसलिए विधानसभा की सुरक्षा बढ़ाने की तैयारी की जा रही है।

बीजेपी विधायक दल की बैठक

बीजेपी ने 15 फरवरी को सुबह 10 बजे विधानसभा की ‘ना पक्ष’ लॉबी में विधायक दल की बैठक बुलाई है। बैठक में रीट परीक्षा में धांधली मामले के साथ ही पार्टी के 4 विधायकों के सत्र से निलम्बन के मामले पर पार्टीलाइन और स्ट्रेटेजी तैयार की जाएगी। किस तरह का प्रदर्शन करने पर विधायकों पर क्या कार्यवाही हो सकती है। रिजल्ट क्या होंगे। इस पर भी मंथन कर पार्टी आलाकमान को पहले ही सूचित किया जाएगा।

आर पार की लड़ाई के मूढ़ में भाजपा

बीजेपी के निलम्बित विधायक रामलाल शर्मा ने कहा है कि बीजेपी सीबीआई जांच की मांग से पीछे नहीं हटेगी। इस संघर्ष में चाहे पूरा बजट सत्र आहूत करना पड़े, बीजेपी तैयार है। चुनावी साल से पहले कांग्रेस सरकार राजस्थान में इस मामले में सीबीआई की एंट्री हरगिज नहीं चाहेगी। ऐसे में सत्तापक्ष और विपक्ष के गतिरोध के चलते जनता से जुड़े विकास के अन्य मुद्दें हंगामे की भेंट चढ़ सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here