हर घर नल योजना में 32 लाख 64 हजार ग्रामीण परिवारों तक नल कनेक्शन का त्रैमासिक रोडमेप तैयार, होगी नियमित मोनेटरिंग-एसीएस डॉ. अग्रवाल

-स्थानीय स्तर पर चलेगा कौशल विकास कार्यक्रम, विकसित होगा पब्लिक ग्रीवेंस रिड्रेसल सिस्टम

0
134
हर घर नल योजना में 32 लाख 64 हजार ग्रामीण परिवारों तक नल कनेक्शन का त्रैमासिक रोडमेप तैयार, होगी नियमित मोनेटरिंग-एसीएस डॉ. अग्रवाल

जयपुर। राज्य में इस साल हर घर नल योजना में 32 लाख 64 हजार पेयजल कनेक्शन उपलब्ध कराने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए त्रैमासिक रोड़मेप को अंतिम रुप दे दिया गया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव पीएचईडी, माइंस एवं पेट्रोलियम डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि जल जीवन मिषन को गति देने के लिए अब रोडमेप के आधार पर क्रियान्विति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि आगामी वर्ष 2023-24 तक सभी एक करोड़ 5 लाख ग्रामीण परिवारों को हर घर नल योजना के दायरें में लाया जा सके।

एसीएस डॉ. अग्रवाल ने बताया कि वर्ष 2022-23 के रोड़मेप के अनुसार पहले त्रैमास में 4 लाख 55 हजार, दूसरे त्रैमास में 7 लाख 97 हजार, तीसरे त्रैमास में 9 लाख 79 हजार और अंतिम त्रैमास में 10 लाख 33 हजार ग्रामीण परिवारों को हर घर नल योजना के दायरें में लाने का रोडमेप तैयार किया गया है। इस तरह से वित्तीय वर्ष के अंत तक 32 लाख 64 हजार ग्रामीण परिवारों को हर घर नल योजना में पेयजल कनेक्शन उपलब्ध कराया जा सकेगा।

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि इस वित्तीय वर्ष में हर घर नल योजना में 70 ब्लॉक कवर करने का कार्यक्रम है जिसमें तीसरे त्रैमास में 15 और चौथे त्रैमास में 55 ब्लॉक कवर किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन को समय पर पूरा करना बड़ी चुनौती है पर योजनावद्ध प्रयासों से इसके कार्यों में तेजी लाई जाने के निर्देश दिए गए हैं।

एसीएस डॉ. अग्रवाल ने बताया कि जल जीवन मिशन के तहत हर घर नल योजना में कौषल विकास पर भी जोर दिया गया है और इसके लिए मेशन, प्लंबर, इलेक्ट्रिशियन और फिटर्स आदि का प्रशिक्षण का भी प्रावधान किया गया है ताकि स्थानीय स्तर पर आवश्यक सेवाएं प्रशिक्षित युवाओं से उपलब्ध हो सके। इसके साथ ही पब्लिक ग्रीवेेंस रिड्रेसल सिस्टम भी विकसित किया जा सकेगा ताकि जन अभाव अभियोग की मोनेटरिंग व निराकरण हो सके।

गौरतलब है कि पिछले दिनों राज्य जल एवं स्वच्छता मिशन की एक्जीक्यूटिव कमेटी की बैठक में कार्यक्रम के क्रियान्वयन में तेजी लाने, अधिकारियों को नियमित रुप से फील्ड में जाने, पानी की एक एक बूंद को बचाने और अवेयरनेस अभियान चलाने को भी कहा गया है। उन्होंने कहा कि यह सीधे ग्रामीणों से जुड़ा देश व प्रदेश का महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है। इस वित्तीय वर्ष में 15 हजार गांवों में 32 लाख 64 हजार परिवारों को हर घर नल योजना के दायरें में लाने का कार्यक्रम बनाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here