जयपुर से इस वक़्त की बड़ी ख़बर: अटल जी के निजी सचिव शिवकुमार पारीक नहीं रहे

0
1737
जयपुर से इस वक़्त की बड़ी ख़बर:अटल जी के निजी सचिव शिवकुमार पारीक नहीं रहे

जयपुर। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निजी सचिव रहे शिवकुमार पारीक का निधन हो गया। पारीक का उपचार के दौरान आज दिल्ली में निधन हुआ। वे करीब 83 वर्ष के थे। उनका अंतिम संस्कार रविवार 6 मार्च को 10.30 बजे चांदपोल मोक्षधाम, जयपुर में होगा। उनकी अंतिम यात्रा शुभम रिसोर्ट ताला मोड़, अचरोल, दिल्ली-जयपुर हाईवे से चांदपोल मोक्षधाम पहुंचेगी।स्वर्गीय शिवकुमार पारीक के दो सुपुत्र महेश और दिनेश है।

अटलजी के पास लंबे समय से सबसे खास सिपहसालार रहे शिवकुमार पारीक उनके दत्तक पुत्र माने जाते थे। अटल जी की अंतिम समय तक सेवा करने वाले पारीक जनसंघ के जमाने से ही उनके साथ थे।

शिवकुमार केवल अटल बिहारी वाजपेयी के निजी सहायक के बतौर ही नहीं, बल्कि उनके हर राजनीतिक उतार-चढ़ाव के साक्षी रहे। उनकी अनुपस्थिति में कई साल तक शिवकुमार ने ही लखनऊ संसदीय क्षेत्र को संभाला था। जब तक वाजपेयी स्वस्थ्य थे, उनके हर पारिवारिक कार्यक्रम में शरीक हुए। बता दें कि जब से भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी ने अस्वस्थता के कारण राजनीतिक और सामाजिक जीवन में सक्रियता कम कर दी, तब से शिवकुमार ही उनकी दिनचर्या को संभालते रहे थे।

अटल-शिवकुमार के ‘अटल रिश्ते’
अटल जी ने अपना पहला लोकसभा चुनाव 1955 में लड़ा था। जिसमें उनकी हार हुई। दो साल बाद 1957 में वो पहली बार लोकसभा चुनाव में जीत कर संसद में कदम रखा। अटल जी की ख्याति दिनों दिन बढ़ी, कुछ ही दिनों में अपनी वाकपटुता से वो देश की राजनीति के उभरते सितारे बन चुके थे। इसी दौरान जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की रहस्यमय हालत में मौत हो गई। उनकी मौत से सब स्तब्ध थे।

लोगों को अटल जी की सुरक्षा की चिंता हुई जो जनसंघ की जड़ें मजबूत करने के लिए बगैर किसी सुरक्षा व्यवस्था के देश व्यापी भ्रमण पर रहते थे। किसी ने सुझाव दिया कि वाजपेयी को एक ऐसे सहयोगी की जरूरत है, जो उनकी रक्षा भी करे। काफी तलाश के बाद चित्रकूट के नानाजी देशमुख ने नाम सुझाया राजस्थान के जयपुर के निवासी शिवकुमार का। जी हां, शिवकुमार का अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ना किसी इत्‍तेफाक से कम नहीं था. पहले शिवकुमार आरएसएस के हार्डकोर स्वयंसेवक थे। अपने लम्बे -चौड़े गठीले शरीर और बड़ी रौबदार मूंछो के कारण वो औरों से अलग दिखते थे।

जयपुर से इस वक़्त की बड़ी ख़बर:अटल जी के निजी सचिव शिवकुमार पारीक नहीं रहे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here