BIG BREAKING : जारोली बर्खास्त, सीएम ने ट्वीट कर की पुष्टि

- बजट सत्र में आएगा नकल विरोधी कानून

0
825
गहलोत

जयपुर। REET भर्ती परीक्षा 2021 के पेपर लीक प्रकरण में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डीपी जारोली को सरकार ने बर्खास्त कर दिया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस प्रकरण को लेकर किए ट्वीट में जारोली के बर्खास्तगी की पुष्टि की है। सरकार की ओर से जारोली के बर्खास्तगी के आदेश भी जारी कर दिए गए है। इस ट्वीट में बोर्ड सचिव अरविंद सेंगवा को निलम्बित करने का भी उल्लेख किया गया है। गहलोत ने बजट सत्र में नकल विरोधी कानून लाने की बात भी कही है। साथ ही रीट पेपर लीक प्रकरण को लेकर चल रही सियासी बयानबाजी पर भी तीखा प्रहार किया है और कहा है कि कुछ लोग राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए ऐसा माहौल बना रहे हैं जिससे कोई आगामी भर्ती परीक्षा नहीं हो सके। भर्ती परीक्षाओं में भविष्य में कोई गड़बड़ी ना हो इसके लिए हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय कमेटी बनाने की बात भी मुख्यमंत्री ने कही है। साथ ही कहा है कि परीक्षा में शामिल किसी भी अभ्यर्थी के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा।

मुख्यमंंत्री अशोक गहलोत ने REET परीक्षा को लेकर अभी थोड़ी देर पहले किए अपने ट्वीट में कहा है कि देशभर में भर्ती परीक्षाओं में पेपर लीक, नकल एवं ठगी की खबरें आती रहती हैं। कई बार तो इसकी सूचना भी समय पर नहीं मिलती जिसके कारण समय रहते कार्रवाई नहीं होती। परन्तु रीट परीक्षा के विषय में जब से सूचना मिली तब से एसओजी ने पूरी गंभीरता से जांच की है। राज्य सरकार ने एसओजी को जांच के लिए फ्री हैंड दिया है। जिन लोगों की संलिप्तता पाई गई है उन्हें गिरफ्तार कर सख्ती से पूछताछ की जा रही है।

डीपी जारोली के बर्खास्तगी  के आर्डर
डीपी जारोली के बर्खास्तगी के आर्डर

सीएम गहलोत ने कहा कि पूछताछ में सामने आई जानकारी के आधार पर लगातार कार्रवाई की जा रही है। गड़बड़ी, कोताही एवं कर्तव्य में लापरवाही करने वाले सरकारी कार्मिकों को तत्काल निलंबित कर बर्खास्त करने तक की कार्रवाई करेगी। परीक्षा का आयोजन करने वाले बोर्ड की जिम्मेदारी तय करते हुए चेयरमैन को बर्खास्त एवं सचिव को निलंबित किया गया है। मुख्यमंत्री ने साफ किया कि राज्य सरकार परीक्षा में गड़बड़ी, कोताही एवं कर्तव्य में लापरवाही करने वाले हर व्यक्ति पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करेगी। परीक्षा में शामिल किसी भी अभ्यर्थी के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट में दुख प्रकट करते हए कहा कि कुछ लोग राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए ऐसा माहौल बना रहे हैं जिससे कोई आगामी भर्ती परीक्षा ना हो सके। ये लोग लाखों अभ्यर्थियों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे हैं। जैसा कि हम सब जानते हैं कि कई राज्यों में ऐसे गैंग बन गए हैं जो संगठित तरीके से पेपर लीक, नकल, ठगी में शामिल हैं जो सभी के लिए चिंता का विषय है। इनकी जांच कर तह तक जाना जरूरी है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य सरकार बजट सत्र में नकल, पेपर लीक आदि के संबंध में कठोर प्रावधानों का बिल लेकर आ रही है। हम युवाओं के हितों के लिए पूरी तरह समर्पित हैं। भविष्य में भर्ती परीक्षाएं निर्विघ्न तरीके से संपन्न हो इसके सुझाव देने हेतु रिटायर्ड हाईकोर्ट जज की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय समिति बनाई जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here