तंबाकू मुक्त बनाने के लिए किया जाएगा जागरूकता गतिविधियों का आयोजन

0
134
तंबाकू मुक्त

श्रीगंगानगर : जिले को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से जागरूकता गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है। इसके लिए अप्रेल माह में विशेष कदम उठाए जाएंगे। इस दौरान सभी स्कूलों को तंबाकू मुक्त संस्थान घोषित करने के साथ ही उनके आस-पास के 100 गज के दायरे को तंबाकू मुक्त किया जाएगा। साथ ही सरकारी कार्यालयों में तंबाकू उत्पाद का सेवन करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। सरकारी कर्मचारी या अधिकारी के पास तंबाकू उत्पाद मिलने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी। ये जानकारी शनिवार को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गिरधारी लाल मेहरड़ा ने पत्रकार वार्ता में दी। इस दौरान जिला तंबाकू प्रभारी अजय सिंह शेखावत एवं सीओआईईसी विनोद बिश्रोई मौजूद रहे।

सीएमएचओ डॉ. गिरधारी लाल मेहरड़ा ने बताया कि राज्य सरकार तंबाकू मुक्त राजस्थान बनाने के लिए प्रयासरत है और इसी उदेश्य को लेकर एनएचएम एमडी डॉ. जितेंद्र कुमार सोनी के निर्देशों पर जिले में 100 दिवसीय विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान सार्वजनिक स्थानों पर धुम्रपान करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा रही है। खण्ड स्तर पर बीसीएमओ एवं अन्य अधिकारी लगातार कार्रवाई कर रहे हैं। इसी तरह अन्य विभाग और पुलिस की ओर से चालान किए जा रहे हैं। ग्राम पंचायत, पंचायत समिति एवं जिला परिषद की बैठकों में तम्बाकू नियंत्रण के विषय में प्रस्ताव पारित कर ग्रामीण स्तर तक लोगों से तंबाकू छोडने के लिए अप्रेल माह में संकल्प पत्र भरवाए जाएंगे।

आगामी 30 अप्रेल को सभी विभागाध्यक्षों की ओर से जिले के गांव-कस्बों तक कोटपा अधिनियम के तहत चालान किए जाएंगे। कहीं भी खुली सिगरेट बेचना अधिनियम के खिलाफ है। ऐसे में खुली सिगरेट बेचान करने वालों पर कार्रवाई होगी। इसी तरह तंबाकू उत्पादों का प्रदर्शन करने एवं प्रचार-प्रसार करने वालों पर भी कार्रवाई होगी। साथ ही सभी स्कूलों, शिक्षण संस्थाओं व आंगनबाड़ी केंद्रों सहित चिकित्सालयों को तंबाकू मुक्त घोषित किया जाएगा और शिक्षण संस्थाओं के नजदीक तंबाकू उत्पादों की बिक्री पर पूर्णत: रोक लगाई जाएगी। आने वाले दिनों में ग्राम स्तर, खण्ड स्तर एवं जिला स्तर पर तंबाकू नियंत्रण विषय पर विद्यालयों में वाद-विवाद प्रतियोगिताएं आयोजित करवाई जाएंगी। जिले के स्टूडेंट्स अभियान के लीडर बनकर अपने आस-पास के लोगों को जागरूक करेंगे। इसी तरह पंचायती राज प्रतिनिधियों को तंबाकू निषेध के तहत आमुखीकरण किया जाएगा।

एनटीसीपी जिला प्रभारी अजय सिंह शेखावत ने बताया कि स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण समितियों तथा शहरी क्षेत्र में महिला आरोग्य समितियों व आशा सहयोगिनियों के माध्यम से नारा लेखन एवं अन्य जागरूकता गतिविधियां आयोजित करवाई जाएंगी। उन्होंने बताया कि संभागीय आयुक्त नीरज के पवन ने निर्देश दिए हैं कि किसी भी विभाग के अधिकारी या कर्मचारी के पास ऑफिस में सिगरेट या तंबाकू उत्पाद नहीं मिलना चाहिए। यदि किसी भी अधिकारी या कर्मचारी के पास सिगरेट या तंबाकू उत्पाद मिलता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए चार्जशीट दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here