ऊन फैक्ट्री के सेप्टिक टैंक में जहरीली गैस के कारण दम घुटने से 4 मजदूरों की मौत

0
169

बीकानेर : सफाई के लिए सेप्टिक टैंक में उतरे 4 मजदूरों की दम घुटने से मौत हो गई। फैक्ट्री मालिक ने मजदूरों को बाहर से बुलाया था। एक-एक कर चारों मजदूर टैंक में उतरे और उनकी मौत हो गई। यह दर्दनाक हादसा बीकानेर के बीछवाल थाना इलाके के करणी इंडस्ट्रियल एरिया में रविवार दोपहर में हुआ। करणी इंडस्ट्रियल एरिया में भगवानमल सुराणा की ऊन फैक्ट्री में बने सेप्टिक टैंक की सफाई के लिए मजदूर लालचंद, कालूराम, चोरुलाल, कृष्णा राम गए थे।

कृष्णा राम बिहार का निवासी था। शेष तीनों बीकानेर के ही थे। टैंक में कार्बन डाई ऑक्साइड बनी हुई थी। इससे टैंक में उतरा एक मजदूर बेहोश हो गया। काफी देर तक टैंक के अंदर से कोई आवाज नहीं आई तो एक-एक कर उसके 2 और साथी टैंक में उतरे। दम घुटने से उनकी भी मौत हो गई। इसके बाद कृष्णाराम तीनों को बचाने के लिए उतरा। उसकी भी मौत हो गई। कृष्णाराम इसी फैक्ट्री का कर्मचारी था। बाकी तीनों बाहर से बुलाए थे।

सेप्टिक टैंक

चारों मजदूर अचेत पड़े थे

ऊन बनाने के लिए उपयोग में आने वाले धागे धोने के लिए कई तरह के केमिकल यूज करते हैं। इसका पानी इस टैंक में जाता है। इस पानी को साफ करने के लिए तीन मजदूर बाहर से बुलाए थे। टैंक में उतरने के बाद लालचंद, कालूराम, चोरुलाल ने बाल्टी से पानी निकालने की कोशिश की, लेकिन कोई बाहर नहीं निकल पाया। आसपास के लोगों ने चारों मजदूरों को अंदर अचेत पड़े थे। मजदूरों को बाहर निकालकर पीबीएम हॉस्पिटल पहुंचाया गया। जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था। घटना के बाद पुलिस- प्रशासन में हड़कंप मच गया है। हॉस्पिटल के बाहर बड़ी संख्या में पुलिस तैनात की गई है। सूचना पर ASP अमित कुमार और CO सदर पवन भदौरिया भी मौके पर पहुंचे।

सीएम ने भी जताया दुःख

सीएम अशोक गहलोत ने दुःख प्रकट करते हुए ट्वीट किया कि बीकानेर के बीछवाल क्षेत्र में करनी इंडस्ट्रियल एरिया में ऊन फैक्ट्री में गैस रिसाव की घटना में चार श्रमिकों की मृत्यु अत्यंत दुखद है। शोकाकुल परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं, ईश्वर उन्हें यह आघात सहने की शक्ति प्रदान करें एवं दिवंगतों की आत्मा को शांति प्रदान करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here