एक दिवसीय बीएमडी शिविर में 122 लोगों ने कराई जांच

0
114
बीएमडी

भरतपुर : गलत जीवन शैली एवं अनियमित खानपान की वजह से हड्डियों के रोगियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए राजकीय आयुर्वेद एवं योग प्राकृतिक चिकित्सा महाविद्यालय से संबद्ध चिकित्सालय में एक दिवसीय बी एम डी जांच शिविर आयोजन धुत्पापेश्वर कम्पनी के दवा प्रतिनिधि मनीष तिवारी ने आयोजन किया गया। जिसका शुभारंभ आयुर्वेद विभाग संभाग भरतपुर के अतिरिक्त निदेशक डॉ. मुकुट लाल शर्मा उपनिदेशक डॉ महेंद्र गुप्ता रसायनशाला प्रबंधक डॉ. सुशील पाराशर महाविद्यालय प्राचार्य एवं अधीक्षक डॉ. रीना खंडेलवाल पूर्व उपनिदेशक डॉ सतीश पाराशर वरिष्ठ आयुर्वेद चिकित्सक डॉ. भगवान सिंह वरिष्ठ आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी‌ एवं संभागीय समन्वयक डॉ चन्द्र प्रकाश दीक्षित द्वारा भगवान धन्वंतरि की पूजा अर्चना द्वारा किया गया।

शिविर में 122 महिला पुरुषों की बीएमडी जांच कर आवश्यक निःशुल्क परामर्श चिकित्सकों द्वारा दिया गया।इस अवसर पर अतिथियों द्वारा अपने उद्बोधन में अच्छे स्वास्थ्य और स्वस्थ रहने के लिए ऋतुओं के अनुसार खानपान एवं दैनिक व्यायाम के महत्व की जानकारी देते हुए नशीली चीजों तंबाकू , गुटखा, बीड़ी सिगरेट एवं मद्यपान नहीं करने की बात कही।इस अवसर पर चिकित्सालय की सेवाओं से संतुष्ट होने पर मदनलाल शर्मा एवं उनकी पत्नी कमलेश द्वारा बारह बैडसीट एवं भर्ती रोगियों को फल वितरित किए जाने पर अतिथियों द्वारा उन्हें सम्मानित किया गया। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आयोजित निबंध प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर योग प्राकृतिक महाविद्यालय के छात्र प्रद्युम्न शर्मा द्वितीय स्थान पर छात्रा आदित्या लवानियां तृतीय स्थान पर रही छात्रा लीना सिंह को स्मृति चिन्ह प्रदान कर अतिथियों द्वारा सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर वरिष्ठ चिकित्सक डॉ राजकुमार शर्मा उप प्राचार्य डॉ यशपाल सिंह डॉ इंदु शर्मा डॉ पिंकी चौहान डॉ मुकेश मीणा डॉ विनोद गर्ग डॉ राजेन्द्र वैष्णव डॉ वंदना मीणा डॉ चन्द्र प्रकाश आदि चिकित्सक मौजूद रहे। शिविर में विप्र फाउंडेशन युवा के पदाधिकारियों ने सहयोग किया इनमे विप्र फाउंडेशन युवा के प्रदेशाध्यक्ष इन्दुशेखर शर्मा, प्रदेश महामंत्री देवाशीष भारद्वाज, जिला महामंत्री अजीत भारद्वाज गांवडी, जिला उपाध्यक्ष पीयूष दीक्षित,रामकुमार पंकज द्वारा सहयोग किया गया। संचालन डॉ चन्द्र प्रकाश दीक्षित ने किया एवं अंत में सभी का आभार व्यक्त प्राचार्य डॉ रीना खंडेलवाल द्वारा किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here