ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ -II के पति प्रिंस फिलिप निधन

queen elizabeth ii prince philip 1208419

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ-II के पति प्रिंस फिलिप का शुक्रवार को निधन हो गया। वे 99 साल के थे। हाल ही में उनकी हार्ट सर्जरी हुई थी। इन्फेक्शन के बाद उन्हें किंग एडवर्ड हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था। यहां 28 दिन रहने के बाद 16 मार्च 2021 को उन्हें डिस्चार्ज किया गया था। प्रिंस फिलिप ने जनवरी में क्वीन के साथ कोरोना वैक्सीन लगवाई थी। 10 जून 1921 को जन्मे प्रिंस फिलिप दो महीने बाद अपना 100वां जन्मदिन मनाने वाले थे।

राज परिवार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि हिज रॉयल हाइनेस द प्रिंस फिलिप, ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग नहीं रहे। रॉयल हाइनेस का आज सुबह विंडसर कैसल में निधन हो गया। प्रिंस फिलिप ने 2017 में अपनी जिम्मेदारियों से रिटायरमेंट ले लिया था। इसके बाद से वह कभी-कभार ही नजर आते थे। इंग्लैंड में कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान वह लंदन में विंडसर कैसल में महारानी के साथ रह रहे थे।

प्रिंस फिलिप ब्रिटिश इतिहास में सबसे लंबे समय तक ‘रॉयल कॉन्सर्ट’ बने रहे। ब्रिटेन में, सम्राट की पत्नी या सम्राज्ञी के पति कॉन्सर्ट के रूप में जाने जाते हैं। यह एक ऐसी पदवी है जो अपार प्रतिष्ठा देती है लेकिन उसकी कोई संवैधानिक भूमिका नहीं है। प्रिंस फिलिप का शुक्रवार को 99 वर्ष की आयु में निधन हो गया। यह भूमिका उन्होंने 1952 में तब ग्रहण की थी जब उनकी पत्नी, महारानी एलिजाबेथ द्वितीय, अपने पिता किंग जॉर्ज षष्ठम की आकस्मिक मृत्यु के बाद सिंहासन पर बैठी थीं। वर्तमान महारानी की मां को ब्रिटेन में ‘द क्वीन मम’ के नाम से जाना जाता था। अपने लंबे जीवन के अंतिम 50 वर्षों के लिए, वह विधवा थी और इसलिए कॉन्सर्ट नहीं थी, लेकिन उन्होंने उस भूमिका में काम किया, जबकि उनके पति, किंग जॉर्ज षष्ठम, 1936 से 1952 तक सिंहासन पर थे।

युद्ध के बाद मिली एलिजाबेथ से शादी की इजाजत
युद्ध के बाद जॉर्ज-षष्टम ने फिलिप के साथ अपनी बेटी एलिजाबेथ से शादी की इजाजत दे दी। सगाई के ऐलान से पहले ही उन्हें अपनी यूनानी और डेनिश शाही पदवियां छोड़कर ब्रिटिश नागरिक बनना पड़ा। सगाई के 5 महीने बाद उन्होंने 20 नवंबर 1947 को एलिजाबेथ से शादी कर ली। इसके बाद उन्हें ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग की उपाधि दी गई।

1952 में एलिजाबेथ के महारानी बनने पर फिलिप ने सेना छोड़ दी। तब वह कमांडर के पद पर थे। राजगद्दी संभालने के बाद क्वीन एलिजाबेथ-II पहली बार 1961 में भारत के दौरे पर आई थीं। उनके साथ प्रिंस फिलिप भी आए थे। यहां जयपुर के राजपरिवार ने उनकी मेजबानी की थी।

PM मोदी ने श्रद्धांजलि दी
प्रिंस फिलिप के निधन पर कई देशों के प्रधानमंत्रियों ने शाही परिवार के लिए संवेदनाएं जताई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि देश उनके असाधारण जीवन और काम के लिए धन्यवाद देता है। देश महारानी और उनके परिवार के साथ है, जिन्होंने अपने प्रिय को खो दिया।

 

pm modi2

 

boris johnson

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *